सुलह

बिना सुलह किये हम सोते नहीं
ग़म में रात रात भर रोते नहीं
हर सुबह नयी शुरुवात होती है
झगड़ों में एक दूजे को खोते नहीं

%d bloggers like this: