इतने दिनों बाद…

आये थे तो रुक के मिल लेते
कुछ रिश्तें दोबारा सिल लेते

सपने चौखट पे तोड़ गए पर
वापस तोहफ़ा-ए-दिल लेते

जो देख कईं शब गुज़ारे थे
फिर वो नज़ारा-ए-तिल लेते

ये बाग़ तुमने ही सजाया था
रुकते तो तुम भी खिल लेते